Posted by: Dilip Gajjar | ડિસેમ્બર 13, 2010

आ चल के तुज़े, में लेके चलू-दीलीप गज्जर

Song: Aa chal ke tuze Film: Dur gaganki Chaav me
Singer: Lyrisist ane music by Kishor Kumar, Cover by Dilip Gajjar
प्यारे संगीत प्रेमीयो आपके सामने पेश करता हु,..आ चल के तुज़े मेरा परिचय दिया है शायर बेदार लाजपूरी ने उनका शुक्रिया अदा करता हुं
मुशव्विर और शायर है जो चित्रकार अच्छा है
दिलीप गज्जर है जिनका नाम वो गुलुकार अच्छा है
गला दिलकश है जिनका दरद दिलमे जो रखता है
दिलीप है आदमी अच्चा उसका किरदार अच्छा है
-बेदार लाजपूरी

जिन्दगी के सफरमें.
दोस्तो कल ही मैने मेरे चहेते गायक कीशोर्कुमारके सुपुत्र अमितकुमार और सुमीतकुमारकी की कोन्सर्ट हमारे शहरमें सूनी…. जिन्दगी के सफरमें..और कीशोरकुमारकी यादोसे यादो से दिल भर गया..उनके बेटेके जरिये सचमुच ही कीशोरकुमारको मिला ऐसा महसूस हुआ..एक से बढकर एक नगमें प्रस्तुत हुए..जी भरके एन्जोय कीया….यह गाना भी बहोत कुछ कह गया,…..आखरी गाना था..जिन्दगी का सफर है ये कैसा सफर..कोई समझ नही कोई जाना नही..बेकग्राउन्डमे परदे पर कीशोर्दा की अन्तिम यात्राकी फील्म दिखाई दे रही थी..यह नगमा भी बहोत मेसेज दे गया…
आंख धोका है क्या भरोसा है सुनो
दोसतो शक दोसतीका दुशमन है..
अपने दिलमें इसे घर बनाने न दो..
अगर तडपना पडे यादमें झीन्दगी
रोक लो रुठकर उनको जाने न दो
बादमें प्यारके चाहे भेजो हझारो सलाम
वो फीर नही आते……….
वो फीर नही आते……….


आ चल के तुज़े, में लेके चलू
इक ऐसे गगन के तले ,
जहाँ गम भी न हो , आंसू भी न हो
प्यार ही प्यार पले
सूरजकी पहली किरनसे , आशाका सबेरा जागे
चंदा कि किरनसे धुल कर, घनघोर अँधेरा भागे
कभी धुप खिले कभी छाव मिले
लम्बी सी डगर न खले
जहा गम भी न हो आंसू भी न हो …

जहा दूर नजर दौड़ आये , आज़ाद गगन लहेराए
जहा रंग बिरंगी पंछी , आशा का संदेशा लाये
सपनों में पली हंसती हो कली
जहा शाम सुहानी ढले
जहा ग़म भी न हो , आंसू भी न हो
बस प्यार ही प्यार पले

फिल्म दूर गगन कि छावमे
गायक किशोर कुमार
लिरिक्स किशोर कुमार

Advertisements

Responses

  1. Dear Dilipbhai,
    what a real feeling like originally sung by Kishoreda… i really liked this song of yours and i heard this for 4 times…its so wonderful and full of SUR and TAAL… plz keep on uploading more and more song of Kishoreda….

  2. Dilipbhai….Very Nice Post !
    Heard your Inroduction….heard “the words of Bedarbhai” and then the Song in your voice !
    Nicely done !
    Congratulations !
    DR. CHANDRAVDAN MISTRY (Chandrapukar)
    http://www.chandrapukar.wordpress.com
    Dilipbhai Your Recent VISIT…your nice words as your COMMENT on Chandrapukar appreciated.


પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s

શ્રેણીઓ

%d bloggers like this: